जानिए मासिक शिवरात्रि की महत्वता और पूजा विधि..!

हिन्दू धर्म में मासिक शिवरात्रि का विशेष महत्व है। जहाँ वर्ष में एक बार शिव भक्तों द्वारा धूमधाम से महाशिवरात्रि मनाई जाता है वही वर्ष के प्रत्येक महीने में एक मासिक शिवरात्रि मनाने की परंपरा हैं। मासिक शिवरात्रि कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मनाया जाता है। मान्यता हैं की महा शिवरात्रि के दिन मध्य रात्रि में भगवान शिव “लिंग” के रूप में प्रकट हुए थे और श‍िवलिंग की पहली बार पूजा अर्चना भगवान विष्णु और ब्रह्माजी द्वारा सम्पन्न हुई थी. मासिक शिवरात्रि के दिन व्रत करने से हर मुश्किल कार्य आसानी से हो जाता है।

इस दिन जो भी कन्याएं मनोवांछित वर पाना चाहती हैं या जिनके विवाह में किसी भी प्रकार की रुकावटें आ रही हैं, वह अगर यह मासिक शिवरात्रि का व्रत करें तो उनकी हर समस्या दूर हो जाती है। शिवपुराण में कहा गया है की इस दिन जो भी सच्चे मन से व्रत करता है उसकी हर इच्छा पूरी हो जाती हैं।

आइए जानते हैं मासिक शिवरात्रि पूजा-विधि:

  • इस दिन सुबह सूर्योंदय से पहले उठकर सनान आदि कार्यों से निवृत हो जाएं।
  • अपने पास के मंदिर में जाकर भगवान शिव परिवार की धूप, दीप, नेवैद्य, फल और फूलों आदि से पूजा करनी चाहिए।
  • सच्चे भाव से पूरा दिन उपवास करना चाहिए।
  • इस दिन शिवलिंग पर बेलपत्र जरूर चढ़ाने चाहिए और रुद्राभिषेक करना चाहिए। इस दिन शिव जी रुद्राभिषेक से बहुत ही जयादा खुश हो जाते हैं. शिवलिंग के अभिषेक में जल, दूध, दही, शुद्ध घी, शहद, शक्कर या चीनी इत्यादि का उपयोग किया जाता है।

  • शाम के समय आप मीठा भोजन कर सकते हैं, वहीं अगले दिन भगवान शिव के पूजा के बाद दान आदि कर के ही अपने व्रत का पारण करें।
  • अपने किए गए संकल्प के अनुसार व्रत करके ही उसका विधिवत तरीके से उद्यापन करना चाहिए।
  • शिवरात्रि पूजन मध्य रात्रि के दौरान किया जाता है।रात को 12 बजें के बाद थोड़ी देर जाग कर भगवान शिव की आराधना करें और श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें, इससे आर्थिक परेशानी दूर होती हैं।

  • इस दिन सफेद वस्तुओं के दान की अधिक महिमा होती है, इससे कभी भी आपके घर में धन की कमी नहीं होगी।

अगर आप सच्चे मन से मासिक शिवरात्रि का व्रत रखते हैं तो आपका कोई भी मुश्किल कार्य आसानी से हो जायेगा. इस दिन शिव पार्वती की पूजा करने से सभी कर्जों से मुक्ति मिलने की भी मान्यता हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *