Shardiya Navratri 2018

following
See More

|| नवरात्रि “कलश स्थापना” का शुभ मुहूर्त || 10 अक्टूबर 2018, बुधवार स्थापना का सर्वोत्तम मुहूर्त = 06:23 से 07:25 तक ।
 मुहूर्त की अवधि = 01 घंटा 02 मिनट। बुद्ध और चन्द्रमा की होरा = 06:23 से 8:20 तक (इस मुहूर्त में कलश स्थापना करने से होरा और चौघड़िया दोनों का लाभ मिलेगा) चौघड़िया मुहूर्त = 06:23 से 9:18 तक नवरात्रि में कलश स्थापना का विशेष महत्व होता है। पहले दिन कलश स्थापना और अखंड ज्योति जलाई जाती है। शुभ मुहूर्त और पूजा-विधि से कलश स्थापना करने पर मनोवांछित अभिलाषाएं पूर्ण होती है: शारदीय नवरात्रि 2018 का शुभारंभ 10th अक्टूबर से होने जा रहा है। नौ दिनों तक चलने वाली इस पूजा में देवी दुर्गा के नौ स्वरूपों की आराधना की जाएगी। यह नवरात्रि 10 अक्टूबर से लेकर 18 अक्टूबर तक चलेंगे। एक वर्ष में चैत्र, आषाढ़, आश्विन और माघ के महीनों में कुल मिलाकर चार बार नवरात्र आते हैं, लेकिन इन सब में से शारदीय नवरात्र सबसे ज्यादा लोकप्रिय हैं। इसे महानवरात्रि के नाम से भी जाना जाता है। शारदीय नवरात्रि 2018 शुरुआत: 10 अक्टूबर (बुधवार) 10 अक्टूबर, प्रतिपदा - बैठकी या नवरात्रि का पहला दिन- घट/ कलश स्थापना - शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी पूजा 11 अक्टूबर, द्वितीया - नवरात्रि दूसरा दिन तृतीय- चंद्रघंटा पूजा 12 अक्टूबर, तृतीया - नवरात्रि का तीसरा दिन- कुष्मांडा पूजा 13 अक्टूबर, चतुर्थी - नवरात्रि का चौथा दिन- स्कंदमाता पूजा 14 अक्टूबर, पंचमी - नवरात्रि का 5वां दिन- सरस्वती पूजा 15 अक्टूबर, षष्ठी - नवरात्रि का छठा दिन- कात्यायनी पूजा 16 अक्टूबर, सप्तमी - नवरात्रि का सातवां दिन- कालरात्रि पूजा 17 अक्टूबर, अष्टमी - नवरात्रि का आठवां दिन-महागौरी, दुर्गा अष्टमी, नवमी पूजन 18 अक्टूबर, नवमी - नवरात्रि का नौवां दिन- नवमी हवन, नवरात्रि पारण 19 अक्टूबर, दशमी - दुर्गा विसर्जन, विजयादशमी इस वर्ष, नवरात्रि 2018 की शारदीय नवरात्रि बहुत ही शुभ बताई जा रही है। कहा जा रहा है कि शुभ मुहूर्त पर और सही पूजा-विधि द्वारा माँ के स्वरूपों की पूजा-अर्चना से भक्तों को सर्वोत्तम फलों की प्राप्ति होगी। नवरात्रों में पूजा-विधि की शुरुआत दुर्गा सप्तसती से की जाती है। भगवान् शिव रचित सप्तश्लोकी दुर्गा का पाठ भी अत्यंत ही प्रभावशाली एवं दुर्गा सप्तसती का सम्पूर्ण फल प्रदान करने वाला है। पुराणों और शास्त्रों में नवरात्रि के नौ दिनों तक उपवास रखने के कुछ नियम बताए गए हैं जिसका पालन व्रत रखने वालों को जरूर करना चाहिए।

house of god
house of god
SAVE

Preferences

THEME

LANGUAGE