चिंता कहाँ से उत्पन्न होती है । चिंता । Audio Books

Liked
See More

दादाश्री : मनुष्य का स्वभाव कैसा है कि यदि उसे कोई थप्पड़ मारे तो वपस उसे थप्पड़ मारता है। लेकिन यदि कोई समझदार हो, तो वह सोचेगा कि ‘मुझे कानून हाथ में नहीं लेना चाहिए।’ कुछ लोग कानून भी हाथ में ले लेते हैं। चिंता क्यों करनी चाहिए मनुष्य को? प्रत्येक भगवान ऐसा कह गए हैं कि चिंता मत करना। सारी ज़िम्मेदारी हमारे सिर पर रखना।

house of god
house of god
SAVE

Preferences

THEME

LANGUAGE